Saturday, 23 May 2015

यादे शायरी


यादे भी…


जीना चाहता हूँ मगर जिनदगी राज़ नहीं आती ,
मरना चाहता हूँ मगर मौत पास नहीं आती ,
उदास हूँ इस जिनदगी से ,
क्युकी उसकी यादे भी तो तरपाने से बाज नहीं आती ..

No comments:

Post a Comment

Note: only a member of this blog may post a comment.