Saturday, 23 May 2015

गम भरी शायरी

खुद को समजना….


अपनों से दूर है अपनों की तलाश ,
ज़िन्दगी से दूर है ज़िन्दगी की तलाश ,
मैं अपने आप को कभी समझ नहीं पाया ,
कि मैं जी रहा हूँ ज़िन्दगी या हूँ एक जिंदा लाश…..!!

No comments:

Post a Comment

Note: only a member of this blog may post a comment.